डीसीपी ट्रेफिक अमित यशवर्धन ने सेक्टर 21D स्थित एपीजे स्कूल में छात्रों को सड़क सुरक्षा, नशा व साइबर अपराध के प्रति किया जागरूक

फरीदाबाद: डीसीपी ट्रेफिक अमित यशवर्धन ने सेक्टर 21D स्थित एपीजे स्कूल में छात्रों को सामाजिक मुद्दों के बारे में जागरूक करते हुए सड़क सुरक्षा, नशा व साइबर अपराध के बारे में जानकारी दी। पुलिस प्रवक्ता सूबे सिंह ने बताया कि फरीदाबाद पुलिस द्वारा छात्रों सहित नागरिकों को सामाजिक मुद्दों के बारे में जागरूक करने के लिए विशेष अभियान चलाया हुआ है जिसके तहत फरीदाबाद पुलिस विभिन्न स्थानों पर जाकर आमजन को महिला व बाल अपराध, साइबर, नशा मुक्ति, सड़क सुरक्षा जैसे अहम मुद्दों के बारे में जागरूक करती है।
इसी के तहत आज डीसीपी अमित यशवर्धन सेक्टर 21D स्थित एपीजे स्कूल में छात्रों को इस विषय में जागरूक करने के लिए पहुंचे जहां पर स्कूल प्रिंसिपल ने डीसीपी व उनकी टीम का हार्दिक अभिनंदन करते हुए उन्हें बच्चों को जागरूक करने के लिए मंच पर आमंत्रित किया। डीसीपी ट्रैफिक ने छात्रों को सड़क सुरक्षा के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि नवयुवक जोश से भरे होते हैं इसलिए वह सड़क पर यात्रा करते समय बहुत तेज गति में वाहन चलाते हैं जिसकी वजह से सड़क दुर्घटनाएं घटित हो जाती हैं जिसमें किसी व्यक्ति की जान तक चली जाती है इसलिए सड़क पर यात्रा करते समय वाहन को तेज गति में ना चलाएं तथा सड़क सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए हेलमेट या सीट बेल्ट अवश्य पहनें ताकि सड़क दुर्घटना की स्थिति में आपका बचाव हो सके। साइबर अपराध के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि आजकल व्हाट्सएप पर आपके किसी जानकार की फोटो लगाकर आपसे मैसेज पर पैसे मांगे जा सकते हैं परंतु आप समझदारी से काम लें और पहले अपने उस जानकार से फोन पर बात करें।
यदि आपको यह विश्वास हो जाए कि यह आपका जानकार आपका दोस्त है तभी आप उसकी मदद करें अन्यथा साइबर ठगों द्वारा आपको चपत लगाई जा सकती है। नशे के विरुद्ध जागरूक करते हुए उन्होंने बताया कि छोटी उम्र में कुछ बच्चे उत्सुकता या शौकिया तौर पर नशे का सेवन करना शुरू करते हैं परंतु बाद में यह उनकी आदत बन जाती है और जब वह इसे छोड़ना चाहते हैं तो छोड़ नहीं पाते। नशा बुराई के रास्ते पर चलने का पहला कदम होता है जिसपर चलकर इंसान नशे व अपराध के दलदल में धंसता चला जाता है इसलिए छात्र विशेषकर यह ध्यान रखें की वह नशे से दूर रहें और अपने साथियों को भी इससे दूर रखने की कोशिश करें। कार्यक्रम के समापन पर डीसीपी ने सभी छात्रों को डायल 112 के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि यदि वह किसी भी प्रकार का अपराध होता हुआ देखें तो तुरंत इस नंबर पर संपर्क करके पुलिस को सूचना दें ताकि पुलिस समय रहते कार्रवाई करके अपराध पर शिकंजा कस सके।
पुलिस प्रवक्ता।

Related Articles

Back to top button