सिरमौर में 328 बीघा भूमि जब्त की ईडी ने अल्केमिस्ट ग्रुप की शिमला

 ऑल इंडिया तृणमूल कांग्रेस के पूर्व राज्यसभा सांसद कंवर दीप सिंह के नेतृत्व वाले अल्केमिस्ट समूह की कंपनियों पर प्रवर्तन निदेशालय (ई.डी.) ने बड़ी कार्रवाई अमल में लाई है। इसके तहत 3 राज्यों हिमाचल, हरियाणा व मध्य प्रदेश में अल्केमिस्ट समूह की कंपनियों से जुड़ी 29.25 करोड़ रुपए की चल और अंचल संपत्तियों को जब्त किया है। इसके तहत हिमाचल के शिमला ग्रामीण (क्योंथल) और सिरमौर जिला में क्रमश: 250 और 78 बीघा भूमि को भी जब्त किया है। इसके साथ ही 1 विमान बीच किंग एयर सी-90 ए और मध्य प्रदेश (कटनी) में स्थित फ्लैट और भूमि को भी अटैच किया गया है। ई.डी. ने जांच में मिले साक्ष्य के आधार पर अल्केमिस्ट रियल्टी लिमिटेड द्वारा हरियाणा के पंचकूला में पाश्र्वनाथ रोयाल प्रोजैक्ट में खरीदे गए 18 फ्लैटों को भी जब्त किया है। ई.डी. दिल्ली जोनल कार्यालय ने धन शोधन के अपराध की जांच के दौरान मिले साक्ष्य के आधार पर ये कार्रवाई अमल में लाई है। साथ ही ई.डी. ने सी.बी.आई. लखनऊ, कोलकाता पुलिस और यू.पी. पुलिस द्वारा अल्केमिस्ट ग्रुप की समूह कंपनियों और कई व्यक्तियों के खिलाफ आई.पी.सी. की धारा 1860 की विभिन्न धाराओं के तहत दर्ज की गई एफ.आई.आर. के आधार पर जांच शुरू की है।

ई.डी. की जांच में खुलासा हुआ है मैसर्स अल्केमिस्ट ग्रुप ने निवेशकों से उच्च रिटर्न प्रदान करनेे और निवेश पर फ्लैट, विला, प्लॉट और उच्च ब्याज दर देने के झूठे वायदे पर मैसर्स अल्केमिस्ट होल्डिंग्स लिमिटेड और मैसर्स अल्केमिस्ट टाऊनशिप इंडिया लिमिटेड नामक कंपनियों के नाम पर 1800 करोड़ रुपए से अधिक की धनराशि अर्जित की जबकि निवेशकों को उनका पैसा कभी नहीं लौटाया गया था धनराशि को अल्केमिस्ट समूह की विभिन्न कंपनियों में ट्रांसफर कर दिया। ई.डी. की जांच में ये भी सामने आया है कि अल्केमिस्ट समूह ने झूठे वायदे कर निवेशकों से अर्जित अपराध की आय से संपत्तियां हासिल करने के लिए विभिन्न क्षेत्रों में कई कंपनियां बनाई थीं। यह भी खुलासा हुआ है कि अल्केमिस्ट समूह द्वारा तीसरे पक्ष के नाम पर भूमि के बड़े भूखंड खरीदे गए थे ताकि संपत्तियों के वास्तविक स्वामित्व को छिपाया जा सके।

10.29 करोड़ रुपए भी किए जब्त
ई.डी. ने इस मामले में बीते दिनों ऑल इंडिया तृणमूल कांग्रेस पार्टी (ए.आई.टी.सी.)से संबंधित 10.29 करोड़ रुपए भी जब्त कर चुकी है। जांच में सामने आया है कि अल्केमिस्ट समूह ने (ए.आई.टी.सी.) की ओर से विमानन कंपनियों को भुगतान करने के लिए अपराध की आय का उपयोग किया था।

NEWS SOURCE : punjabkesari

Related Articles

Back to top button